(Book) Bundelkhand Chitravali - बुंदेलखंड चित्रावली : History, Art , Culture and Literature on one platform

बुंदेलखंड  चित्रावली

(Book) Bundelkhand Chitravali : History, Art , Culture and Literature on one platform

Ambika Prasad DivyaHistory has created History. Now the "Bundelkhand Chitravali" is published. Long awaited publication of History, Art, Culture and Literature is now one one platform.The veteran Author, Artist, Novelist and Poet Late Shri Ambika Prasad Divya is the Author and Artist of this historic Art-Book, "Bundelkhand Chitraval". It is edited by Jagdish kinjalk and Smt. Vijai lakshmi Vibha.

It consists 101 Paintings and Sketches of Great Kings,Queens, Warriors, Great Poets and Historical figures, from Second Century A.D. till Nineteenth Century. Marvelous and hidden historical events and Paintings of History creators, has enriched the value of this great Book. Research work and Paintings of Ambika Prasad Divya, are worth-praising and creating History itself. Divya ji had traveled thousand miles, in Bundelkhand to collect the History and information of Bundelkhand.

It is published by Indira gandhi Rastriya Manav Sangharalaya, Shyamala Hills, Bhopal and Prabhat Publication,New Delhi. It's cost is Rs. 500/- only. The publication of this valuable book, is a historical event in itself.

 

बुंदेल खंड चित्रावली

"बुंदेलखंड चित्रावली’ इतिहास, कला और संस्कृति का एक महत्त्वपूर्ण समन्वय ग्रंथ है। इसमें बुंदेलखंड से संबंधित 101 विभूतियों, राजा-महाराजाओं और महारानियों के चित्र हैं तथा उन सभी का संक्षिप्त इतिहास भी वर्णित है।

बुंदेलखंड की धरती ने इतने युद्ध देखे हैं, जितने भारत के किसी अन्य भू-भाग ने शायद ही देखे हों। इन युद्धों ने इतना रोमांचक और अद््भुत इतिहास गढ़ा, इस कारण चित्रों को प्रस्तुत किया जाना अत्यंत आवश्यक था। यह कार्य कोई सक्षम चित्रकार, इतिहासकार और एक विद्वान् ही कर सकता था। दिव्यजी ने यह कर दिखाया। इस महत्त्वपूर्ण कार्य में हजारों मील की यात्राएँ शामिल हैं। वर्षों की तपस्या और साधना है।

बुंदेलखंड के इतिहास, कला और संस्कृति को समेटकर एक स्थान पर लाना दुस्तर कार्य था। बुंदेलखंड के संदर्भ में इस प्रकार का यह पहला ग्रंथ है। इसके प्रकाशन से बुंदेलखंड के अद््भुत इतिहास पर पर्याप्त प्रकाश पड़ेगा और बुंदेलखंड के अछूते, अनावृत इतिहास संदर्भों की जानकारी भी पाठकों को प्राप्त होगी। विद्यार्थी, शोधार्थी ही नहीं, इतिहास, कला और संस्कृति-प्रेमियों के लिए एक कालजयी कृति।

 

 

Click Here To Buy From Flipkart

Click Here To Buy From Amazon

comments powered by Disqus