बुंदेलखंड की डायरी :: सियासत के सपने


बुंदेलखंड की डायरी :: सियासत के सपने


बुंदेलखंड के एक भाग में सपनो का संसार दिखाया जा रहा है , आश्वासनों और भरोषे के सतरँगी सपने सजाये जा रहे हैं । तो दूसरे भाग में तीन वर्ष पूर्व दिखाए गए सपनो के साकार होने ना होने की जद्दोजहद चल रही है । चुनावी सपनो के इस संसार में एक बात दोनों भागों में समान रूप से देखने को मिलती है कि बुंदेलखंड की दशा और दिशा को लेकर चिंतन लगभग एक समान है । प्रकृति ,पर्यावरण , और पुरातत्त्व सम्पदा से परिपूर्ण इस इलाके की दशा सुधारने के लिए अलग राज्य की बात की जाती है तो कहीं एक बेहतर प्रबंधन की । बुंदेलखंड के लोगों को बेहतर कल का सपना दिखाने में प्रधान मंत्री से लेकर मुख्य मंत्री तक पीछे नहीं हैं , पर यहां के लोगों को शायद अब यह समझ में आने लगा है की सपने सिर्फ सोते हुए सुहाने लगते हैं जागने पर फिर वही काल का चक्र इर्द गिर्द घूमता नजर आता है ।

बुंदेलखंड की अमीर धरती पर गरीब लोग रहते है । पर अब में यहां किसी को गरीब नही रहने दूंगा । रेल आ गई है जल्द ही केन बेतवा लिंक परियोजना शुरू हो जायेगी । रेल के आने से उद्योग आयेंगे सिचाई की सुविधा बढेगी तो खुशहाली आयेगी ।बुन्देलखण्ड में लघु और कुटीर उद्योग का जाल फैलाया जायेगा । यह कहना है मध्य प्रदेश के मुख्य मंत्री शिवराज सिंह चौहान का जो 18 अक्टूबर को खजुराहो में खजुराहो -ललितपुर रेल लाइन पर चलने वाली पहली पैसेंजर ट्रैन को हरी झंडी दिखाने रेलमंत्री सुरेश प्रभु और केंद्रीय मंत्री उमा भारती के साथ आये थे । दो राज्यो में फैले बुंदेलखंड की हकीकत कमोवेश एक जैसी ही है । इसके कुछ दिनों बाद महोबा आये प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंच से मध्य प्रदेश सरकार के काम काज की जम कर तारीफ़ की । उन्होंने मध्य प्रदेश सरकार के अच्छे काम काज के कारण मध्य प्रदेश वाले बुंदेलखंड इलाके के विकाश का दावा भी किया । केन बेतवा लिंक परियोजना से बुंदेलखंड की तक़दीर और तस्वीर बदलने का सपना भी दिखाया । बुंदेलखंड की अकूत खनिज सम्पदा का भी जिक्र किया और यह भी आरोप जड़ा की इसके लुटेरे सपा बसपा के कुछ मुट्ठी भर माफिया हैं जो लखनऊ में बैठ कर यहां लूट करते हैं । इनको ठीक बीजेपी ही कर सकती है ।

मदारी मंच लूट कर चला जाता है फिर वह नहीं देखता की कौन है क्या है और क्या हो रहा है ? उसका तो काम ही है लच्छेदार भाषा शैली का उपयोग करना , जन समूह को अपने शब्द जाल के आकर्षण में बाँध रखना और अपना काम बनाना और अगले मुकाम की ओर बढ़ जाना । लगभग ऐसा ही कुछ मध्य प्रदेश में हो रहा है , जहां इन्वेस्टर सम्मिट के नाम पर बुंदेलखंड में उद्योगों का जाल बिछाने की बात कही जाती है , और डायमंड पार्क इंदौर भेज दिया जाता है । उद्योग विध्य में लगते हैं और जमीन बुंदेलखंड की दे दी जाती है । २००७ के इन्वेस्टर मीट में बुंदेलखंड के लिए 36 हजार करोड़ के १३ एम् ओ यू साइन हुए , 2010 में खजुराहो में हुए इन्वेस्टर मीट में ३० हजार 478 करोड़ के एम् ओ यू पर उद्योगपतियों के हताक्षर होने की बात कही गई , जिसमे रियो टिंटो का हीरा जिसने काम शुरू करके बंद कर दिया , स्पंज आयरन , सीमेंट निर्माण का काम शुरू ही नहीं हो पाया । मुख्य मंत्री ने जो घोषणाएं की उनमे से अधिकाँश आज तक पूर्ण नहीं हुई हैं । मामला चाहे छतरपुर के रिंग रोड का हो या छतरपुर जिले गोद लिए विधान सभा क्षेत्र बड़ा मलहरा और बिजावर का हो । ,

मोदी जी ने लोकसभा के चुनावी भाषण में कहा था की केंद्र में बीजेपी सरकार के बनने के बाद बुंदेलखंड में कोई भूख से नहीं मरेगा । इसके आंकड़े तो अपनी जगह हैं किन्तु महोबा में उनके भाषणों के कुछ दिन बाद ही उत्तर प्रदेश के ललितपुर जिले के गुगवारा गाँव के सुखलाल की मौत भूख से हो गई । उसके पेट पर कपड़ा बंधा था और जेब में रोटियों के टुकड़े मिले । उसके घर कई दिनों से चूल्हा नहीं जला था और पत्नी वा बच्चे भूखे थे । इस घटना के बाद दीपावली के समय टीकमगढ़ जिले के किसान राजेन्द्र सिंह ने खुद को गोली मार ली । नायब तहसीलदार को दिए बयान में उसने कहा की फसल खराब होने के कारण यह कदम उठाया ।

6 नव को झांसी के प्रदर्शनी मैदान में जन सभा को बीजेपी के विकाश के स्वप्न संसार में ले जाने के बाद अमित शाह ने ,परिवर्तन रथ यात्रा को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया । इस सभा में उन्होंने सपा -बसपा पर शब्द वाण चलाये , तो केंद्र की मोदी सरकार का विकाश एजेंडा भी बताया , वहीँ ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर मुस्लिम महिलाओ के साथ बीजेपी के मजबूती से खड़े रहने की बात भी कही । सर्जिकल स्ट्राइक की चर्चा भी अपनी शैली में की ।

अलग राज्य

परिवर्तन यात्रा के मौके पर झाँसी की सांसद और केंद्र में मंत्री उमा भारती ने बुंदेलखंड अलग राज्य के मुद्दे पर अपने अलग अंदाज में बात कही । उन्होंने कार्यकर्ताओ के लिए अपनी जान देने की बात कहते हुए कहा की बुंदेलखड अलग राज्य जरुरी है । असल में उमा भारती इस बात को बहुत ही गंभीरता से समझ रही हैं की बुंदेलखंड अलग राज्य की बात पर ही यू पी वाले बुंदेलखंड के लोग साथ जुड़ते हैं । यही कारण है की १८ अक्टूबर को जब खजुराहो -ललितपुर रेल को हरी झंडी दिखाने वे पहुंची तो अलग बुंदेलखंड राज्य बनाये जाने पर उन्होंने सहमति व्यक्त की । और इसके लिए उन्होंने बुंदेलखंड राज्य की मांग करने वालों को सुझाव् भी दिया की वे अपना काम करते रहें । उन्होंने हर हाल बुंदेलखंड राज्य बनने की बात कही । बीजेपी नेता और फिल्म अभिनेता राजा बुंदेला उमा भारती को इस मसले पर बधाई देते हुए कहते हैं की बुंदेलखंड के लिए यू पी से प्रस्ताव पारित है मध्य प्रदेश में विधान सभा के पटल पर है , मध्य प्रदेश में पास होने के बाद लड़ाई केंद्र में लड़नी पड़ेगी ।

दरअसल सियासत के इस दाँव पेंच में बुंदेलखंड के विकाश की कोई दशा और दिशा ही तय नहीं हो पाई है । प्रबंधन बेहतर तंत्र से बुंदेलखंड की दशा बदली जा सकती है , पर शर्त ये है की नियत साफ़ हो । वैसे बुंदेलखंड के पास वो सब कुछ है जो एक समृध्द प्रदेश के लिए जरुरी है । बुंदेलखंड की बदहाली के लिए जितने बाहुबली जिम्मेदार हैं उससे कहीं ज्यादा जिम्मेदार देश प्रदेश की सरकारें रही । जो बुंदेलखंड की सम्पदा पर तो अपना अधिकार जताती रही पर इसके विकाश से उसे सरोकार सिर्फ इतना ही रहा जितने में जनता को विकास का भ्रम होता रहे ।

By: रवीन्द्र व्यास

comments powered by Disqus