(NEWS) टी. वी. राजेश्वर ने कालिंजर में नीलकंठेश्वर के दर्शन कर संग्रहालय देखा

कालिंजर/नरैनी (बांदा)। राजभवन की व्यस्तता से दूर महामहिम राज्यपाल टीवी राजेश्वर ने मंगलवार को पूरे एक घंटे का समय दो हजार वर्ष पुराने कालिंजर के किले में बिताया। नीलकंठेश्वर महादेव में दर्शन के बाद उन्होंने संग्रहालय भी देखा और फोटोग्राफी की।

ग्राम भरखरी और बड़ोखर खुर्द में किसानों से रूबरू होने के बाद महामहिम तकरीबन 2 बजे हेलीकॉप्टर से कालिंजर के किले पहुंचे। वहां उन्होंने सबसे पहले नीलकंठेश्वर महादेव के दर्शन किये। प्रवेश द्वार पर मंदिर के विशेष आकृति वाले खंभे देखे। इसके बाद उन्होंने संग्रहालय में रखी नायाब मूर्तियां देखीं। पुरातत्व विभाग के वरिष्ठ सहायक संरक्षक दिवाकर सिंह व सीनियर वरिष्ठ अधिकारी एसबी शुक्ला ने दो हजार पूर्व गुप्त कालीन एक हजार शिवलिंग के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दी। म्यूजिकल हॉल व राजा मानसिंह का महल देखा। सरग्वाह तालाब को सूखा देख उन्होंने चिंता जताई। इस दौरान उन्होंने अपने कैमरे में यहां के कई चित्र भी कैद किये।

55 साल बाद यहां आये महामहिम

कालिंजर: महामहिम ने यह राज भी खोला कि 55 साल बाद वह यहां आये हैं। इससे पहले वह सन 1952 में यहां आये थे। इस बीच तीन बार कार्यक्रम बना, लेकिन हर बार रद्द हो गया। उन्होंने कहा कि हालांकि वह यहां एक घंटे तक रहे, लेकिन अभी मन नहीं भरा। जल्दी ही फिर आने का प्रयास करेंगे और पूरा दिन बितायेंगे।

Courtesy: Jagran

Comments

comments powered by Disqus