Bundelkhand.in Team एवं सोशल मीडिया ने बदली विकलांग किसान देवराज की जिंदगी


Bundelkhand.in Team एवं सोशल मीडिया ने बदली विकलांग किसान देवराज की जिंदगी


गत तीन अक्टूबर को सोशल मीडिया में बुंदेलखंड जिला बाँदा के किसान देवराज की कहानी और संघर्ष को पोस्ट किया गया था.अगले दिवस उसके पुरे साक्षात्कार को वीडियो के साथ जारी किया गया.ये किसान ग्राम पंचायत पतवन बबेरू तहसील के एमपी का पुरवा का रहने वाला है.पिछले 40 साल से अपने कटे पैर में लाठी बांधकर खेत में हल जोतने वाला देवराज सीमान्त खेतिहर है.इसके ऊपर 25 हजार रुपया साहूकार का कर्जा था जिसमे ये अपनी विकलांग पेंशन 300 रूपये खर्ष कर देता था 1250 रूपये ब्याज भरने के लिए मासिक ! लेकिन अपने हौसले से वो टुटा नही ,उसने आत्महत्या नही की और एक आदर्श पेश किया बुंदेलखंड के अन्य किसानों के सामने.ये खबर फेसबुक से लेकर बीबीसी हिंदी,द लाजिकल इंडिया में वायरल हुई और समाचार पत्रों में छपने के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सोशल मीडिया का हवाला देते हुए किसान देवराज यादव लखनऊ बुलाकर कृत्रिम पैर,5 हजार रूपये नकद और पांच लाख रूपये प्रोत्साहन स्वरुप दिए है . ये किसान अपने हौसले के साथ बेहतर किसानी कर सकेगा,साथ ही अन्य के लिए सफलता की बानगी भी बन गया है.जिलाधिकारी बाँदा सुरेश कुमार प्रथम सहित सभी ने इसको सलाम किया है.गौरतलब है कि बुंदेलखंड.इन ने इसका सबसे पहले वीडियो जारी किया था और ये खोज संवाददाता आशीष सागर दीक्षित की रही है.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव की संवेदनशीलता और पहल से जनपद बांदा के निःशक्त किसान श्री देवराज को भारी राहत मिली है। एक पैर में पूर्ण विकलांगता के बावजूद अपने मजबूत इरादों और हौसलों की बदौलत, पिछले 40 साल से एक पैर से हल-बैल द्वारा खेती करने वाले श्री देवराज को आज दाहिने पैर का कृत्रिम अंग लगाया गया।

निःशक्त कृषक के सराहनीय जज्बे के मद्देनजर मुख्यमंत्री ने श्री देवराज को 5 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने की घोषणा भी की है। श्री देवराज ने त्वरित सहायता के लिए श्री यादव के प्रति आभार व्यक्त
किया है।

मुख्यमंत्री ने कहा है कि श्री देवराज की हिम्मत और उनका हौसला समाज को प्रेरित करता है। पिछले 40 साल से एक पैर से हल जोतने का कार्य करके उक्त कृषक ने एक मिसाल कायम की है। ऐसे व्यक्ति को प्रोत्साहित किया जाना आवश्यक है। उन्होंने कहा कि समाजवादी सरकार किसानों की खुशहाली और तरक्की के लिए लगातार कार्य कर रही है। गौरतलब है कि सोशल मीडिया के माध्यम से मुख्यमंत्री को जनपद बांदा की बबेरू तहसील के पतवन ग्राम निवासी श्री देवराज के बारे में जानकारी मिली थी। उक्त कृषक की पारिवारिक और आर्थिक स्थिति का ब्यौरा उपलब्ध कराने के लिए मुख्यमंत्री ने बांदा के जिलाधिकारी को 7 अक्टूबर, 2015 को निर्देशित किया था।

मुख्यमंत्री के आदेशों के अनुपालन में स्थानीय प्रशासन द्वारा उक्त कृषक की आर्थिक एवं पारिवारिक स्थिति की जांच की गई, जिसके अनुसार 65 वर्षीय श्री देवराज लघु एवं सीमान्त कृषक की श्रेणी में आते हैं। उनके पास मात्र 1.392 हेक्टेयर कृषक भूमि है, जिससे वे अपने परिवार का भरण पोषण करते हैं। वे स्वयं अपने परिवार के मुखिया तथा मुख्य कमाऊ सदस्य हैं।

श्री देवराज को कृत्रिम पैर लगाए जाने के लिए श्री यादव द्वारा जिलाधिकारी एवं डाॅ0 शकुन्तला मिश्रा राष्ट्रीय पुनर्वास विश्वविद्यालय के रजिस्ट्रार को निर्देशित किया गया। मुख्यमंत्री के निर्देशों के क्रम में
विश्वविद्यालय द्वारा आज कृत्रिम अंग लगाए जाने की व्यवस्था की गई। कृत्रिम अंग लगने के बाद श्री देवराज अपने पैरों से चलने-फिरने में समर्थ हो गए हैं।

 

Related Post: 
(Story) सूखे बुंदेलखंड में वीर किसान देवराज की बुलंद लाठी - Handicapped Farmer in Bundelkhand

By:  Ashish Sagar
Social Activist and Bureau Chief, Banda
www.bundelkhand.in

comments powered by Disqus